--> Independence Day 2019 Speech, 15th August Speech In Hindi & English | The Quotes Pirational

Independence Day 2019 Speech, 15th August Speech In Hindi & English

Happy Independence Day Speech: looking for a great speech for 15th August 2019? Whether you are a student or a teacher. we have some great speech collection for you in English & Hindi.

independence day quotes in hindi

Happy Independence Day Speech: Are you looking for a great speech for 15th August 2019? then we have got you covered. Whether you are a student or a teacher. Here we have some great speech collection for you in English & Hindi. You can download it in the image from the download button below.

Independence Day Speech In English For School Students

Independence Day Speech | 15 August Speech | Independence Day Speech 2019:- Speech on Independence Day means a lot to the person who is expressing his/her thoughts in front of people about our country, history of freedom, Patriotism, Nationalism, National Flag, Importance of Independence Day or other topics related to the Indian Freedom.

15-August-Independence-Day-India

“At the stroke of the midnight hour, when the world sleeps, India will awake to life and freedom…”

These words by India’s first Prime Minister, Jawaharlal Nehru, will forever remain etched in our history. After a century of struggle and being ruled by the British – India was claiming the freedom we always deserved.

Men, women and children rejoiced to call this land their own for the first time. And today, we must ask: Are we respecting the struggle of our forefathers and mothers?

Are we valuing this freedom, and understanding that we, as citizens, have a responsibility towards the nation too? I don’t want to speak about the past today, I want to speak about the future. I want to speak about 4 responsibilities that will help us value this Independence.

Number 1. The responsibility of doing

What does ‘doing’ mean in this sense? Simply put, it’s our responsibility towards taking action for things that matter – of doing something for change. Voting in every election – whether it be a General election or a local election. Taking charge of the cleanliness of our surroundings – let’s remember – Swachh Bharat isn’t just the government’s dream. Doing good for society – helping people out, and respecting the struggle of generations past.

Number 2. The responsibility of speaking up

With freedom, comes a big responsibility to hold those in power accountable. If we see something wrong happening around us, it is our responsibility to speak up and urge for action. A citizen’s voice is the most powerful voice – it can build and break policies, it can build and break governments. Let’s use it to shape our future.

Number 3. The responsibility of upholding this freedom

Let us remember that there are many communities in India who still don’t enjoy freedom, even after Independence. If you are someone who enjoys rights irrespective of your gender identity, caste, education or economic status, it’s time to recognise your privilege and be an ally in the larger fight for equal rights.

Number 4. The responsibility of knowing

We can’t be responsible citizens without knowing about what’s happening around us. It’s a must to be involved in shaping our country’s democracy, and keeping ourselves informed of our rights, responsibilities and the news that affects us and thousands around us.

Independence Day Facebook and Whatsapp Status

These 4 are just the tip of our duties as a citizen. Let’s ensure that not just Independence Day, but every day as an Indian citizen reminds us of what it’ll take to build a strong, peaceful and active community of citizens who respect their freedom and understand their responsibilities.

And with that – Azaadi Divas Mubarak Ho!

73वें स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 15 August Independence Day Speech in Hindi 2019

Happy-Independence-Day-of-India-Flag
आप सभी को मेरा सुप्रभात। मेरा नाम _____है और मैं____कक्षा में पढता हूँ / शिक्षक हूँ। जैसे की हम सब जानते हैं आज हम सब यहाँ इस विशेष अवसर पर एकत्र हुए हैं। इस दिन को हम भारत में गर्व के साथ स्वतंत्रता दिवस के नाम से जानते हैं। आज का यह शुव अवसर स्वतंत्रता दिवस है हमारे लिए बहुत ही उत्साह और ख़ुशी का दिन है।
मैं आज के इस महान दिन में आप सभी लोगों को भारत के स्वतंत्रता दिवस के विषय में कुछ महत्वपूर्ण बातें बताना चाहता हूँ। मुझे विश्वास है इन बातों को सुनने के बाद आपकी छाती गर्व से चौड़ी हो जाएगी।

आप सभी लोगों का मैं शुक्रिया करना चाहता हूँ की आप लोगों ने मुझे यह अद्भुत अवसर दिया ताकि में अपने प्यारे देश भारत के स्वतंत्रता के विषय में इस महान दिन पर अपने कुछ शब्द आप लोगों के समक्ष रख सकूं।

भारत को ब्रिटिश हुकूमत से 15 अगस्त 1947 को आज़ादी मिली थी यानि की पूर्ण स्वराज। हमारे प्रथम प्रधानमंत्री श्री पंडित जवाहरलाल नेहरु जी ने आज़ादी के इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाने का ऐलान किया था।

Download Independence Day WhatsApp Status Video

इस वर्ष 2017 को हम भारतवासी, हमारे देश भारत का 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। स्वतंत्रता और आजादी का मतलब होता है एक ऐसा वातावरण जहाँ किसी भी प्रकार का जोर जबरदस्ती ना हो और हर व्यक्ति को अपनी बात स्वतंत्र रूप से रखने का हक़ हो।

हमारे महान स्वतंत्रता सेनानीयों ने कड़ी मेहनत और संघर्ष के पश्चात ही भारत को पूर्ण स्वराज दिलाया। उन्होंने हमारे लिए बहुत कुछ किया ताकि हमें वो जुल्म सहना ना पड़े और हमारा देश भारत आगे बढ़ सके। आज भारत जितना भी उन्नत हुआ है हमारे सभी स्वतंत्रता सेनानियों के कारण ही हुआ है क्योंकि वो ना होते तो भारत आज भी ब्रिटिश राज का गुलाम होता।

हमारे कुछ महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और नेताओं के नाम हैं महात्मा गाँधी, भगत सिंह, चन्द्र शेखर आजाद, लाला लाजपत राय, सरदार बल्लभ भाई पटेल, लाल बहादुर शास्त्री। उन्होंने लगातार कई वर्षों तक ब्रिटिश सरकार का सामना किया और हमारे वतन को आज़ाद कराया।

उनके इस बलिदान को हम कभी भी भुला नहीं सकते हैं और उन्हें हमेशा एक महान उत्सव और समारोह के जैसे ही दिल से याद करना चाहिए क्योंकि उन्ही की वजह से आज हम अपने देश में आज़ादी से सांस ले पा रहे हैं।

हमारे प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद जिन्होंने कहा था –

हमारे पूर्ण महान और विशाल देश के अधिकार को हमने एक ही संविधान और संघ में पाया है जो देश में रहने वाले 320 लाख पुरुषों और महिलाओं के कल्याण की जिम्मेदारी लेता है।

सबसे बड़ी बात है हमें अपने स्वतंत्रता के मोल को समझना चाहिए। यह बहुत ही शर्म की बात है की इतने वर्षों के आज़ादी के बाद भी आज हम अपराध, भ्रष्टाचार और हिंसा से लड़ रहे हैं। अब हमें दोबारा मिल कर अपने देश को इन बुरी चीजों से दूर करना होगा और एक सफल, विकसित और स्वच्छ देश बनाना होगा।

हमें गरीब, बेरोज़गारी, अशिक्षा, प्रदुषण, ग्लोबल वार्मिंग, असमानता, जाती-भेदभाव आदि जैसे चीजों को समझना होगा और इनका हल भी खोजना होगा।

पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए. पी. जे अब्दुल कलाम जी ने कहा था कि –

अगर देश को भ्रष्टाचार मुक्त, महान और अच्छे ज्ञान वाले लोगों का बनाना है तो मुझे लगता है कि सोसाइटी से जुडी तीन चीजें है जो बदलाव ला सकते हैं। वो हैं माता, पिता, और शिक्षक। भारत देश के नागरिक होने के कारण हमें सोचना चाहिए की हम अपने देश को किस हद तक सफल बना सकते हैं! हमें देश में नकारात्मक चीजों को बढ़ने और होने नहीं देना चाहिए क्योंकि अंत में हम अपने ही भारत मां का नुक्सान करते हैं।

चलो आज हम सब मिलकर प्रण लें कि देश को विश्व में सांसे आगे ले जाने में हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे और देश में बुरी सोच और बुरा सोचने वालों को दूर हटायेंगे।

भारत माता की जय !

आशा करते हैं आपको हमारा यह पोस्ट स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 15 August Independence Day Speech in Hindi अच्छा लगा होगा। कमेंट के माध्यम से ज़रूर बताएं।

INDEPENDENCE DAY SPEECH – SHORT SPEECH
Good Morning Principal Sir/Madam, teachers and friends. Today I am going to give a short speech on Independence Day.

It is our 73rd Independence Day, today. We must take part in the events with devotion. It is very important to honor the flag and sing national anthem. We must remember our brave freedom fighters on this day.

We should be dressed like Bapu, Chacha Nehru, and Bhagat Singh in order to remember them. Hindus, Muslims, Christians and Sikhs must celebrate the day together. It is also a national holiday today.

It was very pleasing to address you all. Thank You! Happy Independence Day!

INDEPENDENCE DAY SPEECH – SHORT SPEECH


Dear Principal Sir/Madam, teachers and friends. Today, we have come here to celebrate the 73rd Independence Day of India.

On 15th August in 1947 we got independence from Britishers. First Prime Minister of India, Chacha Nehru, raised the Indian flag at Red Fort in New Delhi. He also gave his famous speech that day. It was called “Tryst with Destiny”.

Download Independence Day GIFs For Free

India became a free nation on this day. Freedom was not easy to get. Many brave freedom fighters had died. They had died to make the country free. We should remember their courage and fight.

They bravely fought for 200 years. We must remember them and honor them. Raise the flag high and sing national songs. Do not put the flag down. Do not tear the flag. Freedom is very important, so keep it safe. With this I end my speech.

Thank you and Happy Independence Day to all!

LONG SPEECH ON INDEPENDENCE DAY OF INDIA


LONG SPEECH ON INDEPENDENCE DAY OF INDIA

Hon’ble Guests of Honor, Senior Managers, Managers, other Staff Members and My Dear Friends – Warm Greetings to all of you!

I am feeling extremely glad to have been standing in front of you and hosting this invigorating day on the eve of Independence Day. We as Indians very well realize the importance of Independence Day and should be filled with utmost pride to have finally won back our freedom from the shackles of British rule. It gives me a sense of immense joy which is indescribable in words when I see our national flag soaring in the wind high up.

I am sure you can relate with my emotions. Needless to say, Independence Day is celebrated on 15th of August every year and it is in the year 1947 that India emerged as a free nation. Since this is a day of great historical importance for all the Indians, national holiday is being declared in India and all of us celebrate Independence Day with great warmth and show.

This is just a brief about Independence Day, but does anyone here know about the period of British Raj? Well, let me share with you all that it was between 1858 until 1947 that the Britishers colonized our Indian subcontinent. This time period is called the British raj period.

Now, it becomes even more interesting to know how the British colonial rule began in our country. When the East India Company arrived in India, they were stripped of the goods and land of Indian citizens by conspiracy and Queen Victoria making it all the property of the monarchy.

The East India Company was founded in 1600 under Royal Charter during the monarchical reign of Elizabeth I. Though apparently its chief aim was to trade, it eventually became an indomitable force of colonization controlling the most part of our Indian subcontinent. The people living in the Indian subcontinent during that time became the subjects of the British colonial rule under Queen Victoria and subsequently other monarchs who came after her.

I am sure we all can gauge that gaining independence under such challenging situation was not an easy task, but required long and persistent efforts. One of the most prominent personalities who chiefly contributed towards gaining independence was Mahatma Gandhi or what we usually address him as Bapu.

What makes him even a greater personality is the fact that he achieved independence by not following the path of violence or bloodshed, but through his policy of non-violence wherein he did not oppose the rule of Britishers through armed fighting rather he with his followers started the non-violence campaign which comprised hunger strikes and civil disobedience. Their concerted efforts ultimately brought an end to the British Raj in our country. British rule was given an official garb under the name of “British administration of India” and under that garb Indians had to undergo a lot of pain and trauma.

We should salute those heroic spirits and pay our homage to them by remembering their brave deeds and sacrifice for our mother land and never forget that it is because of their efforts that we stand today and breathe in an Independent India.

But the seeds of self-governance in our country were laid down much before India won its independence. In the 19th century, several Indian councilors were appointed on various advisory roles. They were hired for the advisory support of the British viceroys who continued to rule across the major parts of India. In the year 1892, a law known as the Indian Councils Act came into being with a view to empower these councilors as well as other Indian officials. But they remained under the higher British authority and had to put up with the prejudices of the white men to be able to reach the pinnacle of success in their jobs.

It was somewhat in the midnight between 14th August and daytime of 15th August 1947 that the treaty of Indian sovereignty was signed. This was a time when George VI was ruling as the king in Britain and Clement Attlee was their prime minister. In India Jawaharlal Nehru became the prime minister of independent India and Britain renounced his rule over India. The Britishers no longer had anything to do with the Indian affairs.

Even though we do not bear witness to those times, but we can understand very well the intensity of that crucial time when our country actually gained independence. We cannot help but feel proud of it. However, the declaration of freedom came in written in the year 1929, which is much earlier. This declaration happened along with the great freedom fighter Mahatma Gandhi and other known figures, who hoisted the Indian Flag.

It was indeed a big moment for all the Indians. The day of declaration of Indian independence is called as Purna Swaraj. It is quite significant to understand that even though India gained independence in the year 1947, it was only in the 1950s that India’s official constitution as an independent nation came into effect. The period in between was a transition phase in the form of 3 intervening years.

So how can we Indians let go off this momentous day in normalcy and not celebrate this historic day with great pomp and show. So on this day of great historical importance, our prime minister visits Red Fort and hoists the Indian National Flag or our Tricolor (Tiranga). Post that the national anthem is being sung. It is then followed by a stirring speech delivered by our prime minister to the people of its country. Now, the 72nd Independence Day will be celebrated on August 15th, 2018. The whole sight looks so spectacular and mesmerizing that we can’t help but remain in awe while witnessing the whole ceremony.

In the end, all that can be said is freedom is priceless and our soldiers are so brave that they are continuously fighting on borders in order to protect our country from any militant or terrorist group. So we should never fail to value this freedom and preserve it wholeheartedly.

This is all I can say, Jai Hind!

Independence Day Speech | 15 August Speech

Hon’ble Guests of Honor, Managers, other Staff Members and My Dear Friends – Warm Greetings to all of you!
I am feeling extremely happy today by hosting the eve of Independence Day. We as Indians should realize the importance of Independence Day and should be filled with utmost pride to have finally get back our freedom from the chain of British rule. It gives me a sense of joy which is unspeakable in words when I see our national flag soaring in the wind high up. I am sure you can relate to my emotions. Like all, we know Independence Day is celebrated on the 15th of August every year and it is in the year 1947 that India come out as a free nation. Since this is a day of great importance for all the Indians, the national holiday is being declared in India and all of us celebrate Independence Day with great joy and happiness.
Does anyone here know about the period of Britishers? Well, let me share with you all that it was between 1858 to 1947 that the British colonized our Indian subcontinent.

When the East India Company arrived in India, East India Company stripped of the goods and land of Indian people by conspiracy.

The East India Company was founded in 1600. Though apparently, East India Company’s main aim was to trade, it eventually became an indomitable force of colonization controlling the most part of our Indian subcontinent. The people living in the Indian subcontinent during that time became the part of the British colonial rule under Queen Victoria and subsequently other monarchs who came after her.

I am sure we all can say that getting independence under such challenging situation was not an easy task, but required long and persistent efforts. We can never forget the sacrifices of the Netaji Subhas Chandra Bose, Bhagat Singh, Lala Lajpat Rai, Chandrashekhar Azad, Rani Lakshmibai, Ashfaqulla Khan, Bal Gangadhar Tilak, Vallabhbhai Patel, Mangal Pandey, Udham Singh, Tatya Tope, Ram Prasad Bismil, Sukhdev Thapar, Khudiram Bose, Gopal Krishna Gokhale, Sarojini Naidu, Madan Lal Dhingra who had lost their lives just for fighting for their country. How can we ignore all the struggles of Mohandas Karamchand Gandhi. Gandhiji achieved independence by not following the path of violence, but through his policy of non-violence wherein, he did not oppose the rule of British through armed battle rather he with his followers started the non-violence campaign which comprised hunger strikes and disobedience. The efforts of freedom fighters and great leaders ultimately brought an end to the British Raj in our country.

We should salute those heroic spirits and pay our tribute to them by remembering their brave works and sacrifice for our motherland and never forget that it is because of freedom fighters and great leaders efforts that we stand today and breathe in an Independent India.

It was somewhat in the midnight between 14th August and daytime of 15th August 1947 that the treaty of Indian sovereignty was signed. In India, Jawaharlal Nehru became the prime minister of India and Britain renounced his rule over India. The British no longer had anything to do with the Indian affairs.

We can understand very well the intensity of that important time when India actually gained independence. It is quite significant to understand that even though India gained independence in 1947, it was only in the 1950s that India’s official constitution as an independent nation came into effect. The period in between was a transition phase in the form of 3 years.

So on this day of great historical importance, our prime minister visits Red Fort and hoists our National Flag or Tiranga. Post that the national anthem is being sung. It is then followed by a speech delivered by our prime minister to the people of its country. Now, the 73rd Independence Day will be celebrated on August 15th, 2019. The whole site looks so spectacular and mesmerizing that we can’t help but remain in awe while witnessing the whole ceremony.

In the end, all that can be said is Independence is priceless and our soldiers are so brave that they are continuously fighting on borders in order to protect our country from any Enemy or terrorist group. So we should never fail to value this Independence and preserve it wholeheartedly.

This is all I can say, Jai Hind!

स्वतंत्रता दिवस पर बड़े और छोटे भाषण (Long and Short Speech on Independence Day in Hindi)

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 1

आदरणीय मुख्य अतिथि महोदय, सम्माननीय शिक्षक, अभिभावक एवं साथियों। स्वतंत्रता दिवस के इस पावन अवसर पर अपने विचार व्यक्त करने का सुअवसर प्राप्त कर मुझे हर्ष की अनुभूति हो रही है। यह हमारा 73 वां स्वतंत्रता दिवस समारोह है। आज से ठीक 73 वर्ष पूर्व, हमे आजादी मिली थी। हमारे आजादी के संघर्ष की गाथा बहुत बड़ी है जिसका वर्णन एक दिन में नहीं हो सकता है। हर भारतीय के लिए स्वतंत्रता दिवस बहुत महत्व रखता है।

आज से 73 वर्ष पूर्व हम पर अंग्रेजों का शासन था, वे व्यापार के बहाने भारत आए और धीरे-धीरे सब कुछ अपने अधीन कर लिया और हमें अपना गुलाम बना लिया। फिर कई आंदोलन और लड़ाई लड़ने के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ। हमारे देश के वीर योद्धाओं की वजह से आज हम स्वतंत्र हुए हैं और उन लोगों को श्रद्धांजलि देते हुए इस दिन को मनाते हैं। स्वतंत्रता दिवस भारत के राष्ट्रीय पर्वों मे से एक है।

जय हिन्द।

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 2

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, उप प्रधानाचार्य महोदय, माननीय शिक्षकगण एवं प्यारे साथियों। आज स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मुझे अपने विचार आपके सामने व्यक्त करने का सुअवसर प्रप्त कर बेहद खुशी की अनुभूति हो रही है, आइये मै आपको स्वतंत्रता दिवस के महत्व के बारे मे बताती हूं।

स्वतंत्रता दिवस एक ऐतिहासिक पर्व है, आज से 73 वर्ष पूर्व भारत को अंग्रेजों से आज़ादी मिली थी। भारत, जिसने अपना अस्तित्व खो दिया था, को पुनः अपनी पहचान मिली। अंग्रेज भारत आए और यहां के परिवेश को बड़े ध्यान से जानने और परखने के बाद, हमारी कमजोरियों को ध्यान में रखते हुए हम पर आक्रमण किया और करीब दो सौ वर्षों तक शासन किया। हमारे वीर योद्धाओं ने कई लड़ाईयां लड़ी और उसके बाद जाके 15 अगस्त 1947 को हमें आज़ादी मिली।

तब से लेकर आज तक, हम हर वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते आए हैं। हमारे माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा हर साल लाल किले पर झंडा फहराया जाता है। इसके बाद वे देश को संबोधित करते हैं और फिर कुछ रंगा-रंग कार्यक्रम प्रस्तुत किये जाते हैं। इसे देखने के लिये दूर-दूर से लोग दिल्ली जाते हैं और जो वहां नहीं जा पाते वे इसका सीधा प्रसारण देखते हैं।

इस प्रकार हम हमारे वीर जवानों को याद करते हुए अपना स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं।

जय हिन्द।

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 3

यहां उपस्थित सभी दिग्गजों को मेरा प्रणाम एवं भाईयों और बहनों को स्नेह भरा नमस्कार। स्वतंत्रता दिवस के इस शुभ अवसर पर मैं अपने विचारों को पंक्तिबद्ध तरीके से व्यक्त कर रही हूं, ताकि आप उस दौर के मार्मिकता को समझ पाएं, कि आखिर ऐसी क्या जरूरत आन पड़ी थी की जान बाजी लगानी पड़ी, ऐसी कौन सी विपदा आन पड़ी कि देनी पड़ी कुर्बानी थी, और आशा करती हूं कि ये आप सबको जरूर पसंद आएगा।

क्या समझोगे तुम इस युग में कि प्राण गवाने का डर क्या था, क्या समझोगे तुम इस दौर में की अंग्रेजो के प्रतारण का स्तर क्या था। क्या देखा है रातों रात, पूरे गांव का जल जाना। क्या देखा है वो मंजर, बच्चों का भूख से मर जाना। कहने को धरती अपनी थी, पर भोजन का न एक निवाला था। धूप तो उगता था हर दिन, पर हर घर में अंधियारा था।

अरे बैसाखी का था पर्व मनाने घर-घर से दीपक निकले थे, लौट न पाए अपने घर को, खून की होली खेल जो बुझ गए थे। जलियावाला बाग हत्या कांड वो कहलाया, जिसमे बच्चे-बूढ़े सब मर गए थे। क्या कसूर था उन निर्दोशों का कि देनी पड़ी कुर्बानी थी, क्या कसूर था उस बेबस मां का जिससे रूठी उसकी किलकारी थी। धीरे-धीरे आक्रोश बढ़ा, सब के सर पर क्रोध चढ़ा। गांधी जी ने असहयोग आंदोलन चलवाया, तो हमने भी चौरा-चौरी कांड किया।

हमे बेबस समझते थे, इस लिये हमपर हुकूमत करते थे। पर देश पर जान कूर्बान करने से, न हम भारत वासी डरते थे। बहुत हुआ था तानाशाही, अब तो देश को वापस पाना था। साम, दाम, दंड, भेद चाहे जो हथियार अपनाना था। गांधी जी ने धीरज धरा और कहा अहिंसा को ही अपनाना है। इंट का जवाब पत्थर नहीं होता, यह सबक अंग्रेजों को सिखाना है।

अहिंसा को हथियार बनाया, न कोई गोली-बंदूक चलाया। फिर भी अंग्रेजों को हमने, अपने देश से खदेड़ भगाया और उस तारीख को हमने, सुनहरे अक्षरों से गढ़वाया और यही हमारा स्वतंत्रता दिवस है भाइयों, जो शान से 15 अगस्त कहलाया।

जय हिन्द, जय भारत।

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 4

मेरे सभी आदरणीय अधयापकों, अभिभावक, और प्यारे मित्रों को सुबह का नमस्कार। इस महान राष्ट्रीय अवसर को मनाने के लिये आज हमलोग यहाँ इकठ्ठा हुए है। जैसा कि हम जानते है कि स्वतंत्रता दिवस हम सभी के लिये एक मंगल अवसर है। ये सभी भारतीय नागरिकों के लिये बहुत महत्वपूर्ण दिन है तथा ये इतिहास में सदा के लिये उल्लिखित हो चुका है। ये वो दिन है जब भारत के महान स्वतंत्रता सेनानीयों द्वारा वर्षों के कड़े संघर्ष के बाद ब्रिटीश शासन से हमें आजादी मिली। भारत की आजादी के पहले दिन को याद करने के लिये हम हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाते है साथ ही साथ उन सभी महान नेताओं के बलिदानों को याद करते है जिन्होंने भारत की आजादी के लिये अपनी आहुति दी।

ब्रिटीश शासन से 15 अगस्त 1947 में भारत को स्वतंत्रता मिली। आजादी के बाद हमें अपने राष्ट्र और मातृभूमि में सारे मूलभूत अधिकार मिले। हमें अपने भारतीय होने पर गर्व होना चाहिये और अपने सौभाग्य की प्रशंसा करनी चाहिये कि हम आजाद भारत की भूमि में पैदा हुए है। गुलाम भारत का इतिहास सबकुछ बयाँ करता है कि कैसे हमारे पूर्वजों ने कड़ा संघर्ष किया और फिरंगियो कें क्रूर यातनाओं को सहन किया। हम यहाँ बैठ के इस बात की कल्पना नहीं कर सकते कि ब्रिटीश शासन से आजादी कितनी मुश्किल थी। इसने अनगिनत स्वतंत्रता सेनानीयों के जीवन का बलिदान और 1857 से 1947 तक कई दशकों का संघर्ष लिया है। भारत की आजादी के लिये अंग्रेजों के खिलाफ सबसे पहले आवाज ब्रिटीश सेना में काम करने वाले सैनिक मंगल पांडे ने उठायी थी।

बाद में कई महान स्वतंत्रता सेनानीयों ने संघर्ष किया और अपने पूरे जीवन को आजादी के लिये दे दिया। हम सब कभी भी भगत सिंह, खुदीराम बोस और चन्द्रशेखर आजाद को नहीं भूल सकते जिन्होंने बहुत कम उम्र में देश के लड़ते हुए अपनी जान गवाँ दी। कैसे हम नेताजी और गाँधी जी संघर्षों को दरकिनार कर सकते है। गाँधी जी एक महान व्यक्तित्व थे जिन्होंने भारतीयों को अहिंसा का पाठ पढ़ाया था। वो एक एकमात्र ऐसे नेता थे जिन्होंने अहिंसा के माध्यम के आजादी का रास्ता दिखाया। और अंतत: लंबे संघर्ष के बाद 15 अगस्त 1947 को वो दिन आया जब भारत को आजादी मिली।

हमलोग काफी भाग्यशाली है कि हमारे पूर्वजों ने हमें शांति और खुशी की धरती दी है जहाँ हम बिना डरे पूरी रात सो सकते है और अपने स्कूल तथा घर में पूरा दिन मस्ती कर सके। हमारा देश तेजी से तकनीक, शिक्षा, खेल, वित्त, और कई दूसरे क्षेत्रों में विकसित कर रहा है जोकि बिना आजादी के संभव नहीं था। परमाणु ऊर्जा में समृद्ध देशों में एक भारत है। ओलंपिक, कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स जैसे खेलों में सक्रिय रुप से भागीदारी करने के द्वारा हमलोग आगे बढ़ रहे है। हमें अपनी सरकार चुनने की पूरी आजादी है और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का उपयोग कर रहे है। हाँ, हम मुक्त है और पूरी आजादी है हालाँकि हमें खुद को अपने देश के प्रति जिम्मेदारीयों से मुक्त नहीं समझना चाहिये। देश के जिम्मेदार नागरिक होने के नाते, किसी भी आपात स्थिति के लिये हमें हमेशा तैयार रहना चाहिये।

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 5

यहाँ मौजूद मेरे प्यारे दोस्तों और आदरणीय अध्यापकों को सुबह का हार्दिक नमस्कार। 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के इस शुभ अवसर को मनाने के लिये हम सब एकत्रित हुए है। ये दिन हमलोग पूरे उत्साह और खुशी के साथ मनाते है क्योंकि इसी दिन ब्रिटीश शासन से 1947 में भारत को आजादी मिली थी। हमलोग यहाँ 73वाँ स्वतंत्रता दिवस मनाने आये है। सभी भारतीयों के लिये ये बहुत ही महान और महत्वपूर्ण दिन है।

कई वर्षों तक अंग्रेजों के क्रूर बर्तावों को भारतीय लोगों ने सहन किया। आज हमलोग लगभग सभी क्षेत्रों में आजाद है जैसे शिक्षा, खेल, परिवहन, व्यापार आदि क्योंकि ये केवल हमारे पूर्वजों के संघर्षों की वजह से संभव हो सका। 1947 से पहले, लोगों पर बहुत पाबंदियाँ थी यहाँ तक कि उनका अपने दिमाग और शरीर पर भी अधिकार नहीं था। वो अंग्रेजों के गुलाम थे और उनके हर हुक्म को मानने के लिये मजबूर थे। आज हम कुछ भी करने के लिये आजाद है उन महान भारतीय नेताओं की वजह से जिन्होंने ब्रिटीश शासन के खिलाफ आजादी पाने के लिये कई वर्षों तक कड़ा संघर्ष किया।

बहुत खुशी के साथ पूरे भारत में स्वतंत्रता दिवस को मनाया जाता है। ये सभी भारतीयों के लिये बेहद महत्वपूर्ण दिन है क्योंकि ये हमें मौका देता है उन महान स्वतंत्रता सेनानीयों को याद करने का जिन्होंने हमें एक शांतिपूर्ण और खूबसूरत जीवन देने के लिये अपने जीवन की कुर्बानी दे दी। आजादी से पहले, लोगों को पढ़ने-लिखने की, अच्छा खाने की और हमारी तरह सामान्य जीवन जीने की मनाही थी। भारत में आजादी के लिये जिम्मेदार उन कार्यक्रमों का एहसानमंद होना चाहिये। अपने अर्थहीन आदेशों की पूर्ति के लिये अंग्रेजों द्वारा भारतीयों के साथ गुलामों से भी ज्यादा बुरा बर्ताव किया जाता था।

भारत के कुछ महान स्वतंत्रता सेनानी है नेताजी सुभाष चनद्र बोस, गाँधीजी, जे.एल.नेहरु, बाल गंगाधर तिलक, लाला लाजपत राय, भगत सिंह, खुदीराम बोस, चन्द्रशेखर आजाद आदि। ये प्रसिद्ध देशभक्त थे जिन्होंने अपनी जीवन के अंत तक भारत की आजादी के लिये कड़ा संघर्ष किया। हमारे पूर्वजों द्वारा संघर्ष के उन डरावने पलों की कल्पना भी नहीं कर सकते हमलोग। आजादी के वर्षों बाद हमारा देश विकास की सही राह पर है। आज हमारा देश पूरी दुनिया में लोकतांत्रिक देश के रुप में अच्छे से स्थापित है। गाँधी एक महान नेता थे जिन्होंने अहिंसा और सत्याग्रह जैसे आजादी के असरदार तरीकों के बारे में हमें बताया। अहिंसा और शांति के साथ स्वतंत्र भारत के सपने को गाँधी ने देखा।

भारत हमारी मातृभूमि है और हम इसके नागरिक है। हमें हमेशा इसको बुरे लोगों से बचाने के लिये तैयार रहना चाहिये। ये हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपने देश को आगे की ओर नेतृत्व करें और इसे दुनिया का सबसे अच्छा देश बनाये।

जय हिन्द।


स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 6

आज के सम्माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय अध्यापकगण, अभिभावक और मेरे प्यारे मित्रों को सुबह का नमस्कार। मैं आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई देता हूँ। हम सभी यहाँ बड़े भीड़ में इकठ्ठा होने का कारण जानते है। इस महान दिन को उत्कृष्ट तरीके से मनाने के लिये हम सभी उत्साहित है। अपने राष्ट्र का 73वाँ स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिये हम सभी यहाँ इकठ्ठा हुए है। सबसे पहले हम अपना राष्ट्रीय झंडा फहराते है फिर उसके बाद स्वतंत्रता सेनानीयों के वीरता युक्त कार्य को सलामी देते है। मुझे भारतीय नागरिक होने पर गर्व महसूस होता है। आप सब के समक्ष स्वतंत्रता दिवस पर भाषण देने का मुझे अच्छा अवसर मिला है। मैं अपने आदरणीय क्लास टीचर को धन्यवाद देना चाहूँगा कि उन्होंने मुझे भारत की आजादी पर आप सबके सामने अपना विचार रखने का मौका दिया।

हम सभी हर साल 15 अगस्त के दिन स्वतंत्रता दिवस मनाते है क्योंकि 14 अगस्त 1947 की रात को भारत को आजादी मिली। भारत की आजादी के तुरंत बाद, नई दिल्ली में स्वतंत्रता दिवस को पंडित जवाहर लाला नेहरु ने भाषण दिया। जब पूरी दुनिया के लोग सो रहे थे, ब्रिटीश शासन से जीवन और आजादी पाने के लिये भारत में लोग जगे हुए थे। अब, स्वतंत्रता के बाद, दुनिया में भारत सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। हमारा देश विविधता में एकता के लिये प्रसिद्ध है। इसने कई घटनाओं का सामना किया इसके धर्मनिरपेक्षता को परखने के लिये जबकि भरतीय लोग हमेशा अपनी एकता से जवाब देने के लिये तैयार रहते है।

अपने पूर्वजों के कड़े संघर्षों की वजह से हम अपनी आजादी का उपभोग करने लायक बने है और अपनी इच्छा से खुली हवा में साँस से सकते है। अंग्रेजों से आजादी पाना बेहद असंभव कार्य था लेकिन हमारे बाप-दादाओं ने लगातार प्रयास से इसको प्राप्त कर लिया। हम उनके किये कार्य को कभी भूल नहीं सकते और हमेशा इतिहास के द्वारा उन्हें याद करते रहेंगे। केवल एक दिन में सभी स्वतंत्रता सेनानीयों के कामों को हम याद नहीं कर सकते हालाँकि दिल से उन्हें सलामी दे सकते है। वो हमेशा हमारी यादों में रहेंगे और पूरे जीवन के लिये प्रेरणा का कार्य करेंगे। आज सभी भारतीयों के लिये बहुत महत्वपूर्ण दिन है जिसको हम महान भारतीय नेताओं के बलिदानों को याद करने के लिये मनाते है, जिन्होंने देश की आजादी और समृद्धि के लिये अपना जीवन दे दिया। भारत की आजादी मुमकिन हो सकी क्योंकि सहयोग, बलिदान, और सभी भारतीयों की सहभागिता थी। हमें महत्व और सलामी देनी चाहिये उन सभी भारतीय नागिरकों को क्योंकि वो असली राष्ट्रीय हीरो थे। हमें धर्मनिरपेक्षता में भरोसा रखना चाहिये और एकता को बनाए रखने के लिये अलग नहीं होना है जिससे इसे कोई तोड़ न सके और हम पर फिर से राज न कर पाये।

हमें आज कमस खाना चाहिये कि हम कल के भारत के एक जिम्मेदार और शिक्षित नागरिक बनेंगे। हमें गंभीरता से अपने कर्तव्यों को निभाना चाहिये और लक्ष्य प्राप्ति के लिये कड़ी मेहनत करनी चाहिये तथा सफलतापूर्वक इस लोकतांत्रित राष्ट्र को नेतृत्व प्रदान करना चाहिये।

जयहिन्द, जयभारत।

COMMENTS

Name

ENTERTAINMENT,39,EVENTS,16,GOSSIPS & RUMORS,24,JIO DTH,8,Movie Review,8,Movies,9,STATUS,8,Trending,10,WEB SERIES,5,WHATSAPP VIDEO STATUS,2,WIKI BIO,7,
ltr
item
The Quotes Pirational: Independence Day 2019 Speech, 15th August Speech In Hindi & English
Independence Day 2019 Speech, 15th August Speech In Hindi & English
Happy Independence Day Speech: looking for a great speech for 15th August 2019? Whether you are a student or a teacher. we have some great speech collection for you in English & Hindi.
https://1.bp.blogspot.com/-Mj5qNQML1Pw/XVTtyFxukaI/AAAAAAAAAGE/8pp0MZkD_TEcJQlw7F110zWBSsdPF_FEwCLcBGAs/s640/independence-day-quotes-in-hindi-1024x576.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-Mj5qNQML1Pw/XVTtyFxukaI/AAAAAAAAAGE/8pp0MZkD_TEcJQlw7F110zWBSsdPF_FEwCLcBGAs/s72-c/independence-day-quotes-in-hindi-1024x576.jpg
The Quotes Pirational
https://www.quotespirational.com/2019/08/independence-day-speech.html
https://www.quotespirational.com/
https://www.quotespirational.com/
https://www.quotespirational.com/2019/08/independence-day-speech.html
true
6599362351442356377
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy